Tuesday, 27 December 2016

All new sad shayari 2017

#मोहब्बत कि ज़ंज़ीर #से डर लगता हे,
कुछ #अपनी तफलीक से #डर लगता हे.
# जो मुझे तुजसे #जुदा करते हे,
हाथ #कि वो लकीरो से #डर लगता हे.
#Mohabbat ki zanjeer #se der lagta hai,
kuch apni #taqdeer se der #lagta hai,
jo #mujhey tujh se juda #kerti hai,
mujhey #hath ki uss lakeer se #der lagta hai!


#दर्द से दोस्ती हो #गई यारों,
जिंदगी #बे दर्द हो गई #यारों,
क्या #हुआ जो जल गया #आशियाना हमारा,
दूर तक #रोशनी तो हो गई #यारो।
#Dard se dosti ho #gayi yaaro,
Zindagi #bedard ho #gayi yaaro.
Kya #hua jo jal gaya aashiyana #hamara,
#Duur tak roshni to ho gayi #yaaro..


#बिन बात के ही #रूठने की आदत है,
किसी #अपने का साथ पाने #की चाहत है,
आप #खुश रहें, मेरा #क्या है..
मैं तो आइना #हूँ, मुझे तो #टूटने की आदत है।
Bin #Baat Ke Hi Roothne #Ki Aadat Hai,
Kisi Apne #Ka Saath Paane Ki #Chahat Hai,
Aap #Khush Rahe, Mera #Kya Hai..
Mai To Aaina #Hu, Mujhe Tootne Ki #Aadat Hai..!


#हर बात में आंसू #बहाया नहीं करते,
दिल की #बात हर किसी को #बताया नहीं करते,
लोग मुट्ठी में #नमक लेके #घूमते है..
दिल #के जख्म हर किसी को #दिखाया नहीं करते।
#Har bat pe aansu #bahaya nahi karte,
dil ki #bad har kisi ko #bataya nahi karte,
log #muthi me namak #leke ghumte hain..
dil ke #jakham har kisi ko #dkhaya nahi karte!!


2 comments:

  1. मोहब्बत के नाम पे खुद को आजमाना छोड़ दे
    जो है तकलीफ तो ये जमाना छोड़ दे,
    किस्मत को मत दोष दे ऐ नादान
    जो बदलनी है ये जिंदगी तो मैखाना छोड़ दे।

    ReplyDelete
  2. Very Good......jindagi ke falsafe samjhane wali shayri..

    ReplyDelete