Sunday, 11 December 2016

All new sad shayari in hindi font

#गुजारिश हमारी वह #मान न सके,
मज़बूरी #हमारी वह जान #न सके,
कहते #हैं मरने के बाद भी #याद रखेंगे,
# जीते जी जो हमें #पहचान न सके.
#Gujarish hamari woh #maan na sake,
Majburi #hamari #woh jaan na sake,
Kehte #hain marne ke baad bhi #yaad rakhenge,
#Jeete ji jo #hame pehchan na sake.

#खुश नसीब होते हैं #बादल,
जो दूर #रहकर भी ज़मीन पर #बरसते हैं,
और #एक बदनसीब #हम हैं,
जो एक #ही दुनिया में #रहकर भी.. मिलने को #तरसते हैं.
Khush #nasib hote hain #badal,
Jo dur rehkar #bhi zameen par #baraste hain,
Aur #ek badnasib #hum hain,
Jo ek hi #duniya mei #rehkar bhi.. Milne ko taraste hain.

No comments:

Post a Comment