Wednesday, 14 December 2016

Sad Shayari in hindi 2017

#न जाने सालों बाद कैसा #समां होगा,
हम सब #दोस्तों में से #कौन कहा होगा,
फिर #अगर मिलना होगा तो #मिलेंगे ख्वाबों मे,
जैसे सूखे #गुलाब मिलते है #किताबों मे.
Na #jane saloon baad #kaisa sama hoga,
Hum sab #doston mei se kaun #kaha hoga,
Phir #agar milna hoga to #milenge khwabon mai,
Jaise sukhe #gulab milte hai #kitabon mai.


#खुश नसीब होते हैं #बादल,
जो दूर #रहकर भी ज़मीन पर #बरसते हैं,
और #एक बदनसीब #हम हैं,
जो एक ही दुनिया में #रहकर भी.. मिलने को #तरसते हैं.
Khush #nasib hote hain #badal,
Jo #dur rehkar bhi #zameen par baraste hain,
Aur ek #badnasib hum #hain,
Jo ek hi #duniya mei rehkar #bhi.. Milne ko #taraste hain.

No comments:

Post a Comment